CAG ignores vital documentary evidence on Rafale scam - press conference

CAG ignores vital documentary evidence on Rafale scam - press conference



ALL INDIA CONGRESS COMMITTEE

24, AKBAR ROAD, NEW DELHI

COMMUNICATION DEPARTMENT


Highlights of the Press Briefing: February 13, 2019


Congress President Shri Rahul Gandhi addressed the media at AICC Hdqrs.


श्री रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आए दिन राफेल के षड़यंत्र का नया पर्दाफाश होता है और आए दिन चौकीदार अपनी नई चोरी से बचने के बहाने बनाता है। आदरणीय कांग्रेस अध्यक्ष श्री राहुल गांधी ने उस रहस्य के अनेकों परतों का पर्दाफाश आपके माध्यम से देश के समक्ष किया। आज फिर उसी कड़ी में सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण बात को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जी हमारे बीच आए हैं। मैं उनसे अनुरोध करुंगा कि वो आपसे अपनी बात कहें।


Shri Rahul Gadhi said- I would like to welcome everyone here. Do you recall the argument given by the Prime Minister, Defence Minister and Finance Minister on why the new deal was required? Do you recall the argument? The argument was based on two things, number 1 Price, number 2 the fact that Air force needed Aircrafts quickly. So I would like to take you to this document, that is the note of the Negotiating team, where and I will read from the document “the updated financial statement of Dassault aviation for financial year reveals that the company has backlog for Rafale aircraft of 83 number, of which 38 is to be delivered to France, 21 Egypt and 24 Qatar. 


In financial year 2015 Dassault Aviation manufactured and supplied 8 Rafale Aircrafts, 5 for France and 3 for Egypt. At the production rate of 8 Aircraft per year, Dasault aviation would take at least 10 years to complete its present backlog of Rafale Aircraft. Considering the current backlog of 83 Aircrafts, Rafale Aircraft for Dassault aviation and its current production rate of 8 Aircrafts per year, the delivery schedule is being offered by the French Side in the IGAS highly optimistic”. The fact of the matter is that the new deal that Mr. Narandra Modi signed gets India the aircraft later than the original deal. 


No.2 on price again document of the officers, who the technical experts the economical experts on price they say- “the final price offered by the French Government, (which is escalation based) is 55.6% above the bench mark, (which is performed and fixed price). Considering the future escalations till the time of delivery, the gap in the bench mark and the final price would further increase”. So here they stand demolished; the two pillars on which the entire government arguments for the new deal was based. There is only one reason, the new deal has been carried out and that is to give Mr. Anil Ambani Rs. 30,000 crores.


श्री राहुल गांधी ने कहा कि पूरा आर्ग्यूमेंट मोदी जी का, जेटली जी का, निर्मला सीतारमन जी का था कि एयरफोर्स को हवाई जहाजों की जल्दी जरुरत है और नई डील इसलिए की गई क्योंकि वो एयरफोर्स को हवाई जहाज जल्दी देना चाहते थे। इस नोट में, जो डिफेंस मिनिस्ट्री का नोट है, जो टेक्निकल एक्सपर्ट इस डील को नेगोशियेट कर रहे थे, उनका नोट है, इसमें साफ लिखा है कि इस डील में अंतिम हवाई जहाज 10 साल में आएगा। मतलब इस डील में हिंदुस्तान को हवाई जहाज पिछली डील से देरी में मिलेंगे और दूसरा इसी डॉक्यूमेंट में उन्हीं ऑफिसरों ने दाम के मामले पर कहा कि अंतिम जो दाम फ्रेंच ने ऑफर किया है, इस नई डील में वो 55 प्रतिशत बेंच मार्क प्राइस से ऊंचा है, मतलब 55 प्रतिशत एक्सपेंसिव है। तो दोनों जो पिलर थे, ये कागजात उनको खत्म कर देता है, डिमोलिश कर देता है। इस डील का सिर्फ एक कारण है कि नरेन्द्र मोदी जी अनिल अंबानी को 30,000 करोड़ रुपए देना चाहते थे।


On a question that CAG report says that prices were 2.86% lower than the UPA prices, what do you have to say about the CAG report, (waiving the negotiating report in the hand), Shri Gandhi said- the first question is why is this document not in this report because this is a document that has been prepared by the Indian negotiation team. They are the experts, so why are we not seeing the dissent note they have placed in the report. This is what the officers are saying that they do not agree with this new deal. This new deal is rubbish, this new deal is a con and this new deal is robbery. This is about these officers who are saying in diplomatic language. So, why is this not here, question no.1?


Question number-2, something interesting you mentioned 2.5%, even if we say they have not talked about cost and even if we say this document is not in this CAG report. FM said- Raksha Mantri, FM and Modi ji made different statements on price and they said that the new deal is between 9% and 20% better in financial terms. So, The CAG report is saying that they lied in first place. We do not agree with 2.5% but even what they are saying, is calling Mr. Narendra Modi’s and Rakhsa Mantri’s bluff and I think they made this statement in Parliament, if I am not mistaken. So, even they are saying that Mr. Narendra Modi, Mr. Arun Jaitley and Raksha Mantri lied to Parliament, when they said 9% and 20% but I don’t even by this 2.5%, because the experts are these people here, who are saying 55%. Now, I will request Randeep Ji to explain the CAG report part. 


Shri Surjewala said- In fact, if you have a look at the report while the report admits that the Sovereign Guarantee, the Bank Guarantee and the Performance Guarantees were included in the request for proposal of 2007 bids for which were opened in 2011 and it is not included in the 36 Aircraft deal and the CAG report itself admits and that there is clear advantage being given to Dassault aviation and let me read that particular line only for you, it says in Para 2.3  “in the offer of 2007 M/s Dassault aviation had provided the financial and performance guarantees . The cost of which was embedded in the offer, because the request for proposal had required the vendor to factor these cost  in the price bid, but in the offer of 2015 there were no such guarantees” and finally he says “however audit noted that this was actually a saving for Dassault aviation, when compared to the previous offer and they forgot to include this cost, which according to the INT document that has been published in the paper today which Congress President showed is close to a thousand million Euros per or a billion Euros. 


Number 2, the audit report despite recording fails to include that for 126 Aircraft the cost of India’s specific enhancement was 1,400 million Euros but for 36 Aircrafts, it is still 1,300 million Euros which is a 300% jump.


Shri Gandhi added by the way, that’s where the corruption has taken place. That is exactly where the corruption has taken place, because the India enhancement cost the same for 126 Aircraft as they cost for 36 Aircraft and that is exactly where the corruption money has gone. So, to recap; this is a document which was the dissent note placed by the Negotiators, Financial experts, Military experts, this document has no mention of this, there is no mention that the negotiators actually placed a dissent note, that the negotiators actually said 55% cost escalation that the negotiators actually said that delivery would happen later in the second deal. So, please note here, even if we take that and even if we say- okay fine, the 2.5% increase they talk about still catches the lie of the Prime Minister, the Defence Minister and the Finance Minister of 9 to 20% escalation. 


Final thing, please study the India enhancement. 36 Aircraft cost of India specific enhancement for 36 Aircraft is the same as the cost for India specific cost for 126 Aircraft. This is very convenient Randeep Ji, how much does that money total up to?  


Shri Surjewala said- For 126 it was 11 million per Aircraft and for now it becomes 36 million per Aircraft, So it  of 25 million Euros per Aircraft. 


Shri Gandhi said- 25 million Euros per Aircraft are suddenly required to make same India enhancement. That is exactly whether corruption has taken place and this is now black and white and I am telling you again and again let Mr. Narendra Modi come in our discussion with me, with Randeep Ji, with anybody he wants. Let’s sit down and you put your case about your reasoning, your logic and let us put our case, let the country decide


जनता डिसाईड करेमैं नरेन्द्र मोदी जी के साथ में कहीं भीकिसी भी समय राफेल पर डिबेट करने के लिए तैयार हूंआ जाएंकोई समस्या नहीं है। अब हमारी मांग सिर्फ ये है कि आप कहते हैं कि कोई घोटाला नहीं हुआजेपीसी कराओअगर कोई घोटाला नहीं हुआ है तो उससे क्यों डर रहे हैं? That is clear, let’s not fool ourselves. There is only one potential answer and that is Mr. Narendra Modi has given this money to Mr. Anil Ambani 


एक अन्य प्रश्न पर कि सरकार के द्वारा कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अब सीएजी रिपोर्ट पर भी कांग्रेस सवाल उठा रही हैश्री गांधी ने कहा कि ये कागज जो हैंक्या ये सुप्रीम कोर्ट को दिए गए थे? This is a critical paper, this is the central piece. Did Supreme Court have accesse to this paper, because if Supreme Court had accessed this paper, they could never make the judgment they made and by the way let it be clear about the judgment they made, Supreme Court did not say that they should not be investigated, they said- it is not our jurisdiction. But, open question was Supreme Court given this paper by the Government of India? No! it was not or आखिरी सवालवो तो सुप्रीम कोर्ट के फैसले में साफ लिखा था कि ये रिपोर्ट तो खरगे जी के ऑफिस में हैतो उनको मिल गई। Supreme Court is deciding on a report that has not been published. 


एक अन्य प्रश्न पर कि आप जिस नेगोशियेटिंग टीम की बात कर रहे हैंजिन तीन लोगों की बात चल रही थीउनका डॉयसेंट नोट नहीं थाश्री गांधी ने कहा कि No! This is not a dissent note. Three of the negotiators they have put this black and white. Listen, let me tell you, why they have put this in black and white. They have put this in black and white because they understand the crime is being committed and they don’t want to be part of it. This is them, making sure that when the investigation happens, they are not going to jail. अब पता नहीं मतलब क्या प्रेशर डाल रहे हैं, क्या कर रहे हैं? But, this is now a Government note, this is a Government paper stands in law. 


मुलायम सिंह यादव जी के बयान पर पूछे एक अन्य प्रश्न के उत्तर पर श्री गांधी ने कहा कि मैं उनसे डिसएग्री करता हूं। लेकिन मुलायम सिंह यादव जी का राजनीति में रोल रहा है, उनकी मैं रिस्पेक्ट करता हूं, उस रोल की मैं रिस्पेक्ट करता हूं।

 

एक अन्य प्रश्न पर कि राफेल मुद्दा क्यों एक चुनावी मुद्दा नहीं बन पा रहा हैकांग्रेस पार्टी के अलावा कोई भी विपक्षी दल इसको नहीं उठा रहा हैश्री गांधी ने कहा कि मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में जब चुनाव जीता गया, ये एक मुद्दा था। एक नया मॉडल निकला है, आप कहीं जाकर टेस्ट कीजिए, आप बोलिए कि चौकीदार...आप कोशिश कीजिए, लोग कहेंगे कि चोर है। हिंदुस्तान का युवा अपने आपसे पूछ रहा है कि जिस व्यक्ति पर मैंने पूरा भरोसा किया था, उस पर अब मैं भरोसा नहीं कर सकता हूं, क्योंकि उसने एयरफोर्स को धोखा दिया है। दूसरा जो आपको साफ दिख रहा है, आज आपने नरेन्द्र मोदी जी का चेहरा संसद में देखा होगा, तो अंदर से नरेन्द्र मोदी जी पूरी तरह से demoralized हैं, घबराए हुए हैं और जानते हैं कि अब कहीं ना कहीं, किसी दिन ये प्रोसेस चालू होगा। तीन काउंटस पर राफेल का मामला कन्क्लूजन तक पहुंचेगा - प्रोसेस, करप्शन, नेशनल सिक्योरिटी एक्ट। तो इसका साइक्लोजिकल इम्पेक्ट है, आप देखिए, लोकसभा में बीजेपी के एमपी से बात करेंगे, जैसे ही वो कुछ कहते हैं, आप उनसे बोलो भ्रष्टाचार के बारे में क्या सोचते हैं, राफेल के बारे में क्या सोचते हैं, मेरा नहीं उनका जवाब होगा कि हाँ, कुछ ना कुछ तो हुआ है। तो ये बीजेपी के सांसदों के मन में है, बीजेपी के एमएलएज के अंदर है, उनके मंत्रियों के अंदर है, उनकी लीडरशिप के अंदर है, प्रधानमंत्री के अंदर है।

 

एक अन्य प्रश्न पर कि आज संसद के अंतिम सत्र का अंतिम दिन थाआगे इस मामले पर आप क्या करेंगेश्री गांधी ने कहा कि अभी यहाँ पर तो किसी ने कहा कि राफेल की बहुत धुलाई हो रही है, मैं जवाब देना चाह रहा था कि धुलाई नहीं हो रही है, वाशिंग मशीन चल रही है, मतलब नोन स्टॉप चल रहा है। ये अजीब सी बात है, मुझे लग रहा है कि ब्यूरोक्रेसी में, डिफेंस मिनिस्ट्री में, एयरफोर्स में ये फीलिंग अब पूरी तरह घुस गई है कि यहाँ पर शत-प्रतिशत चोरी हुई है।


On another question what is your specific response to the CAG report, Shri Gandhi said- As far as I am concerned. A CAG report that does not mention this document (INT Document), that does not mention the dissent that the negotiating team itself made on price, on timing. I don’t think it’s worth the paper.  


एक अन्य प्रश्न पर कि सरकार द्वारा आप पर आरोप लगाए जा रहे हैं कि आप ना संसद को मान रहे हैंना सीएजी रिपोर्ट को मान रहे हैंजो सरकार जवाब दे रही हैउसको भी नहीं मान रहे हैंतो आप आगे क्या करेंगे श्री गांधी ने कहा कि जो मैं रोज कर रहा हूं, वहीं करुंगा। मैं विपक्ष का नेता हूं, मेरा काम सरकार की जो कमियां हैं, गलतियां हैं, करप्शन है, गलत पॉलिसीज है, उसको एक्सपोज करना है, मैं अपना काम कर रहा हूं। जब वो किसानों की मदद नहीं करते हैं, मैं किसानों का मुद्दा उठाता हूं। जब वो राफेल में भ्रष्टाचार करते हैं, तो मेरी पूरी कोशिश होती है कि मैं देश के युवाओं को, देश की जनता को सच्चाई बताऊं। जब वो रोजगार नहीं दिलवाते, मेरी पूरी कोशिश होती है कि मैं दूसरी एक एप्रोच जनता को दिखाऊं, युवाओं को दिखाऊं, तो ये तो लड़ाई चलती जाएगी।

 

एक अन्य प्रश्न पर कि प्रधानमंत्री मोदी जी ने एक इंटरव्यू में कहा था कि उनके ऊपर कोई व्यक्तिगत आरोप नहीं हैश्री गांधी ने कहा कि उन्होंने ये कब कहा, किसके साथ था इंटर्व्यू? आप करिए ना उनसे इंटर्व्यू, आप उनसे ठीक से पूछिए। मेरे साथ डिबेट कीजिए, मैं उनको बताता हूं, मुझे भी जवाब नहीं देंगे। मैं बताता हूं कौन आरोप लगा रहा है, कैसे आरोप लग रहे हैं। यहाँ पर पूरी दुनिया कह रही है, पर्रिकर जी कहते हैं, हाथ जोडकर कहते हैं मुझे नई डील के बारे में मालूम नहीं। यहाँ पर नेगोशियेटिंग ऑफिसर कहते हैं कि जो नई डील मोदी जी लाए हैं वो 55 प्रतिशत महंगी है, 10 साल में हवाई जहाज मिलेंगे और मोदी जी कहते हैं कि मेरे ऊपर आरोप नहीं लग रहा है। मोदी जी आप पर आरोप लग रहा है और ये आरोप है कि आपने अनिल अंबानी को 30,000 करोड़ रुपए एयरफोर्स से छीन कर दिए हैं। ये आरोप आप पर लग रहा है और पूरा देश लगा रहा है।  


एक अन्य प्रश्न पर बीजेपी की तरफ से ये कहा जा रहा है कि कांग्रेस मैंटली बैंक करप्ट हैं, श्री गांधी ने कहा कि वो तो उनका विचार है, उसके बारे में मैं कुछ नहीं कह सकता। मैं यहाँ पर खुलकर सवाल पूछता हूं, आपके सामने आता हूं। आप मुझसे सवाल पूछते हैं, समाजवादी पार्टी के बारे में पूछते हैं, राफेल के बारे में पूछते हैं, मैं छुपता तो नहीं हूं, मैं डरता तो नहीं हूं आपसे। आप कभी-कभी दबाव भी डाल देते हैं, गलत जवाब भी आ जाता है कभी-कभी! मगर मैं घबराता नहीं हूं, क्योंकि मेरे साथ सच्चाई खड़ी है। दूसरी तरफ नरेन्द्र मोदी जी आपके सामने कभी नहीं आते हैं। मैं आपको बता रहा हूं, जिस दिन नरेन्द्र मोदी जी यहाँ आपके सामने बैठ गए और जिस दिन आपको आजादी दे दी कि 5 सवाल पूछ लो, 6 नहीं, 5 सवाल, मैं गारंटी देता हूं, वे उठकर यहाँ से भाग जाएंगे, क्योंकि रिसपोंस ही नहीं है उनके पास। रिसपोंस क्या हो सकता है - यहाँ पर नेगोशियेटिंग टीम कह रही है कि आपने नई डील गलत की है, आपने प्राइस एसकेलेशन किया है, आपने 10 साल एयरफोर्स को नुकसान पहुंचाया, तो जवाब क्या हो सकता है? कोई जवाब नहीं हो सकता है।

 

निर्मला सीतारमन जी के दिए बयान पर पूछे एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि निर्मला सीतारमन जी ने सीएजी रिपोर्ट के मुताबिक संसद में झूठ बोला है। कैग रिपोर्ट कहती हैं और इसको मैं मानता नहीं हूं पर ये कहती है कि ढाई प्रतिशत कीमत कम हुई है, निर्मला सीतारमन जी ने तो 9 से 20 प्रतिशत कहा था, वो तो संसद में झूठ बोल रही हैं, तो उनको मैं क्या जवाब दूं। 

Sd/-

(Vineet Punia)

Secretary

Communication Deptt. 

                                                                        AICC