Hon'ble Congress President Shri Rahul Gandhi addressed a Public rally in Dhuragaon, Chhattisgarh

Hon'ble Congress President Shri Rahul Gandhi addressed a Public rally in Dhuragaon, Chhattisgarh



ALL INDIA CONGRESS COMMITTEE

24, AKBAR ROAD, NEW DELHI

COMMUNICATION DEPARTMENT

 

Highlights of CP speech                                             16 February, 2019

 

Congress President Shri Rahul Gandhi addressed Public Rally in Dhuragaon, Chhattisgarh.


कांग्रेस अध्यक्ष श्री राहुल गांधी ने कांग्रेस नेताओं का स्वागत करते हुए कहा - पी.एल.पुनिया जी, भूपेश बघेल जी, चरणदास महंत जी, टी.एस. सिंह देव जी, ताम्रध्वज साहू जी, कवासी लखमा जी, दीपक बैद जी हमारे सब मंत्री, एमएलएस, पार्टी के हमारे नेता, प्यारे कार्यकर्ता, एनएसयूआई, यूथ कांग्रेस, महिला कांग्रेस, सेवादल के हमारे सब लोग, भाईयों और बहनों, प्रेस के हमारे मित्रों, बस्तर की जनता, छत्तीसगढ़ के सब युवा, आप सबका यहाँ बहुत-बहुत स्वागत, नमस्कार! 


श्री गांधी ने कहा जम्मू-कश्मीर में जिन सीआरपीएफ के जवानों ने कुर्बानी दी, शहीद हुए, उनको हम याद करते हैं और अपना पूरा का पूरा प्यार उनके परिवारों को देते हैं। मैं पहले बस्तर आया था औऱ मैंने आपसे 2-3 वायदे किए थे। आपने मांग उठाई, आप मेरे पास आए और आपने कहा था कि टाटा प्लांट में आपकी जमीन थी, आपसे ले ली गई थी और उस पर 10 साल से कोई काम नहीं हुआ, तो आप अपनी जमीन वापस चाहते थे, आपको याद होगा। ये आवाज बस्तर के दिल की आवाज थी। जब आप मेरे पास आए थे, डेलिगेशन आया था, मैंने कहा था कि भूमि अधिग्रहण के मुताबिक जब किसी किसान से, आदिवासी से जमीन ली जाएगी, तो उससे पूछ कर ली जाएगी और अगर आदिवासी, किसान ने कहा कि हाँ, मेरी जमीन ले सकते हैं तो फिर मार्केट रेट से 4 गुना पैसा उसको दिया जाएगा। उसी कानून में साफ लिखा है कि अगर 5 साल के अंदर उस जमीन का प्रयोग नहीं किया गया, चाहे वो बड़ी से बड़ी कंपनी हो, अगर उन्होंने कारखाना, फैक्ट्री नहीं लगाई 5 साल के अंदर तो वो जमीन किसान को, आदिवासी को वापस दी जाएगी, ये देश का कानून है। 


जब आपने मुझसे कहा तो मैंने आपसे कहा, ये आपका हक बनता है, ये आपकी जमीन है और अगर कानून में लिखा है कि 5 साल के अंदर अगर काम नहीं हुआ तो जमीन वापस दी जाएगी, तो मैं गारंटी देकर आपको कहता हूं, छत्तीसगढ़ की सरकार गारंटी देकर आपको कहती है कि कानून को हम लागू करके दिखा देंगे। क्योंकि हिंदुस्ताम में कानून सबके लिए होता है, कानून सिर्फ बड़े उद्योगपतियों के लिए या सबसे अमीर लोगों के लिए नहीं बनता है। जब हिंदुस्तान में कानून बनता है तो वो देश के हर नागरिक के लिए बनता है, चाहे वो आदिवासी हो, किसान हो, मजदूर हो या सबसे बड़ा बिजनेसमैन हो। तो हमने जो आपसे वायदा किया था और मुझे खुशी हो रही है कि बस्तर में ये ऐतिहासिक काम किया गया है। बघेल जी ने कहा कि देश का ये पहला प्रदेश है, जिसने आदिवासियों को, किसानों को उनकी जमीन वापस दी है। 


मैंने आपसे दूसरे भी वायदे किए थे। मैंने आपसे कहा था कि जल, जंगल और जमीन का हक आपका है, आपका जल, आपकी जमीन, आपका जंगल और जो इस जंगल में उगता है, उसका फायदा आपको मिलना चाहिए। मैं फिर खुशी से कहता हूं कि तेंदूपत्ता के लिए आपको 4,000 रुपए का रेट मिलता है। किसानों से हमने कहा कि आप दिनभर लगे रहते हैं और मैं पब्लिक मीटिंग में पूछता था, जब बीजेपी की सरकार थी, मैं पूछता था कि बताओ, धान के लिए आपको क्या दाम मिलता है और छत्तीसगढ़ के किसान हाथ उठाकर कहते थे, क्या कहते थे, आपको बीजेपी के समय कितना दाम मिलता था कहते थे – 1400 रुपए, 1500 रुपए। अब मैं वही सवाल आपसे पूछना चाहता हूं कि कांग्रेस पार्टी की सरकार में आपको धान के लिए कितने रुपए मिलते हैंजनता ने कहा – 2500 रुपए। 2500 रुपए आपको मिलते हैं। तो आप मुझे एक बात समझाईए, जब यहाँ रमन सिंह जी की सरकार थी, जब हमने जमीन की बात की, सही दाम देने की बात की, तेंदूपत्ता की बात की, वो कहते थे पैसा नहीं है, हम 25,00 रुपए नहीं दे सकते हैं, तो मैं आपसे सवाल पूछना चाहता हूं कि तब पैसे नहीं थे, तो आज पैसे कहाँ से आ गएये कैसे हो सकता है कि जब बीजेपी की सरकार छत्तीसगढ़ में थी, तो किसानों को सही दाम देने के लिए पैसे नहीं थे, मगर जैसे ही कांग्रेस पार्टी की सरकार आई तो वैसे ही किसान को 2500 रुपए धान के लिए मिलने शुरु हो गए, तेंदूपत्ता के लिए 4,000 रुपए मिलने शुरु हो गए। 


भाईयो और बहनों! पैसे की कोई कमी नहीं है, बीजेपी के पास, आर.एस.एस. के पास। रमन सिंह जी के पास पैसे की कोई कमी नहीं थी, वो आपका पैसा आपसे छीन कर या तो अपनी जेब में डालते थे या फिर अपने 15 उद्योगपति मित्रों की जेब में डालते थे। हमने आपसे कहा किसान को सिर्फ सही दाम नहीं मिलेगा, छत्तीसगढ़ में फूड प्रोसेसिंग यूनिट का, फूड प्रोसेसिंग फैक्ट्री का जाल बिछाया जाएगा, याद है आपकोयहाँ पर मक्के को प्रोसेस करने की फैक्ट्री का काम शुरु हो गया है और हमने अभी काम शुरु किया है। हमारी सरकार यहाँ तीन, चार, पांच साल से नहीं है, कम से कम समय में हमने एक के बाद एक जो वायदे आपसे किए थे, पूरे किए। सबसे बड़ा वायदा मोदी जी ने साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए 15 लोगों का कर्जा माफ किया है, 12 लाख करोड़ रुपया बचा है, एक के बाद एक करने जा रहे हैं, ये कौन लोग हैंअनिल अंबानी, नीरव मोदी, मेहुल चोकसी, ललित मोदी,  ये लोग चोर हैं। तो नरेन्द्र मोदी जी चोरों का कर्जा माफ करते हैं और हमने मीटिंग में कहा अगर नरेन्द्र मोदी जी, अगर चौकीदार चोरों का कर्जा माफ कर सकता है तो कांग्रेस पार्टी छत्तीसगढ़ के किसानों का कर्जा माफ करके दिखा देगी। हमने आपसे कहा कि छत्तीसगढ़ में 10-15 साल से कर्जा माफ नहीं किया, नरेन्द्र मोदी जी ने 5 साल में दिल्ली में, 15 साल गुजरात में एक रुपया माफ नहीं किया, हमने आपसे कहा 10 दिन गिनो, एक, दो, तीन, चार, पांच, छह, सात, आठ, नौ, दस और सच्चाई क्या निकली? आपने गिने, एक घंटा, दो घंटे, तीन घंटे, चार घंटे, पांच घंटे, छह घंटे और छह घंटे में काम हो गया। हजारों –करोड़ों रुपए जो आपका धन था, छत्तीसगढ़ की सरकार का नहीं, छत्तीसगढ़ के किसान का जो धन था, जो आपका अपमान हो रहा था, जो आपसे चोरी की जा रही थी, वो पैसा हमने उठाकर वापस दिया और कहा कि भाईयो, बहनों और किसानों ये आपका है, लीजिए। 


नरेन्द्र मोदी जी का जवाब, बजट में नरेन्द्र मोदी जी कहते हैं – किसानों के लिए हम नई योजना लाए हैं, नई योजना लाए और जब फाईनेंस मिनिस्टर ने योजना अनाउंस की, बीजेपी की पूरी कैबिनेट ने, बीजेपी के सब एमपीज ने 5 मिनट, यूं धड़ा-धड़ ताली बजाई। मैंने सोचा, ये क्या कर रहे हैं5 मिनट ताली बजा रहे हैं, पता लगा नरेन्द्र मोदी जी और फाईनेंस मिनिस्टर ने कहा भाईयों और बहनों! हिंदुस्तान के किसानों को हम 17 रुपए देंगे, दिन के 17 रुपए। मतलब एक परिवार को 17 रुपए, परिवार के एक व्यक्ति को साढ़े तीन रुपए और उधर बीजेपी के लोग धड़ा-धड़, धड़ा-धड़ ताली बजा रहे हैं, देखो भईया, कमाल हो गया। अनिल अंबानी को दिया 45,000 करोड़ रुपए, चोरी करवा दी। एय़रफोर्स से चोरी की, अनिल अंबानी को 45,000 करोड़ रुपए, हिंदुस्तान के किसान को साढ़े तीन रुपए और बीजेपी के लोग धड़ा-धड़ ताली बजा रहे हैं। मजाक बना रखा है। उससे कुछ दिन पहले हमने यहीं छत्तीसगढ़ में अनाउंस किया कि कांग्रेस पार्टी गारंटी देकर जैसे हमने कर्जा माफी की, जैसे हमने बस्तर में जमीन वापस दी, जैसे हमने 4,000 रुपए तेंदूपत्ता के लिए दिया, हमने कहा कि हम गारंटी देकर कह रहे हैं और हिंदुस्तान का हर गरीब व्यक्ति किसी भी जाति का, किसी भी धर्म का, कहीं का भी, आदिवासी, दलित, पिछड़े, जो भी हो, अच्छी तरह सुन ले, कांग्रेस पार्टी की सरकार देश के हर गरीब नागरिक को न्यूनतम आय की गारंटी दे रही है। मतलब जैसे नरेन्द्र मोदी जी ने सीधे अनिल अंबानी के बैंक अकाउंट में पैसा डाला, वैसे ही कांग्रेस पार्टी हर गरीब व्यक्ति के बैंक अकाउंट में सीधा पैसा डालेगी। बीजेपी के लोग घबरा गए, कहते हैं, नहीं भईया अब तो फंस गए, चलो, चलो, साढ़े तीन रुपए हिंदुस्तान के किसानों को दे दो। नहीं, हम साढ़े तीन रुपए नहीं देंगे, हम 17 रुपए नहीं देंगे, जितना पैसा आपने अनिल अंबानी को दिया है, लाखों-करोड़ रुपए आपने उनको दिया है, जो आपने उनको दिया, हम इनको देंगे। करो जो करना है। हिंदुस्तान के हर नागरिक को, हर गरीब व्यक्ति के बैंक अकाउंट में कांग्रेस पार्टी पैसा डाल कर दिखा देगी, गरीबी को हम मिटा कर दिखा देंगे। आप करो जो करना है, आप बोलो जो बोलना है, हम ये काम हिंदुस्तान की जनता के लिए, हिंदुस्तान की माताओं-बहनों के लिए, हिंदुस्तान के किसानों के लिए करके दिखा देंगे। आपने सच्चाई देख ली है। 


नरेन्द्र मोदी जी आते हैं, कहते हैं – हर बैंक अकाउंट में 15 लाख रुपए डालूंगा, मिल गया? मिलासुनाई नहीं दिया, मिला(जनता ने कहा नहीं मिला), (इसी बीच जनता ने कहा –चौकीदार चोर है)। चौकीदार ने कहा था 15 लाख रुपए दूंगा, अनिल अंबानी को 45,000 करोड़, हिंदुस्तान के 15 बिजनेसमैन को साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए कर्जा माफ किया, आपको कितना दिया, बताओएक पैसा नहीं दिया।


नरेन्द्र मोदी जी ने रोजगार की बात की, 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे। कितने युवाओं को रोजगार दिए, बताओअगली बात करते हैं, कहा किसानों को सही दाम देंगे, किसानों को सही दाम दिया, बताओकहा था, कर्जा माफ करेंगे, किसानों का कर्जा माफ किया, बताओइसको भी छोड़ा, आप लोग बीमा का पैसा देते हैं, बीमा का पैसा किसको जाता है - अनिल अंबानी को। आप पैसा दो, नुकसान होता है, आंधी आती है, ओला गिरता है और आपका पैसा सीधा का सीधा अनिल अंबानी की जेब में, बड़े-बड़े उद्योगपतियों की जेब में जाता है।  


आपको क्या-क्या दिया, मैं बता रहा हूं। अब नोटबंदी की बात करते हैं, कालेधन के खिलाफ लड़ाई। बोला था ना- बोला था। आप लाइन में खड़े थे, यहाँ जो बैठे हैं, आपको याद हैएक बात बताओ, आपको लाइन में अनिल अंबानी, मेहुल चोकसी, नीरव मोदी, ललित मोदी, दिखाई दिए? नहीं दिखे। आपने ईमानदार लोगों की लाइन देखी, माताओं-बहनों से पैसा लिया गया, छीना गया। मुझे एक बात समझा दो कि अगर कालेधन के खिलाफ लड़ाई थी, तो लाइन में सब ईमानदार लोग क्यों खड़े थे(जनता ने फिर कहा - चौकीदार चोर है।)

अब आपसे आपका पैसा छीना, लाखों-करोड़ रुपए छीने और कर्जा माफ उनका किया। चोरों का कर्जा, ये कौन थेमैं बताता हूं, 30,000 करोड़ रुपए मेहुल चोकसी, 30,000 करोड़ रुपए नीरव मोदी, 45,000 करोड़ रुपए अनिल अंबानी, 10,000 करोड़ रुपए विजय माल्या, ललित मोदी, ये लोग थे। 


अब छोटे दुकानदारों, छोटे व्यापारियों, स्मॉल-मीडियम बिजनेस वालों की बात करते हैं। पहले आपकी पीठ तोड़ी, आपसे कहते हैं 500 रुपए, 1000 रुपए का नोट रद्दी कर रहा हूं, उसके बाद कहते हैं, बात नहीं बनी, गब्बर सिंह को लाओ। गब्बर सिंह को लाते हैं, रात को 12 बजे गब्बर सिंह टैक्स और सब के सब व्यापारियों को खत्म कर दिया। छत्तीसगढ़ के व्यापारी, जो छोटा बिजनेस, मिडिल साइज बिजनेस चलाते हैं, उनसे मैं कहना चाहता हूं, सिर्फ छत्तीसगढ़ के नहीं, पूरे हिंदुस्तान के छोटे एवं मध्यम स्तर के व्यापारी, अच्छी तरह सुन लो, पूरे देश में जो इन्होंने ये गब्बर सिंह टैक्स लागू किया है, 2019 में ये जो इन्होंने गब्बर सिंह टैक्स लागू किया है, 5 अलग-अलग टैक्स बना रखे हैं, आपका खून चूसते हैं, इस गब्बर सिंह टैक्स को बदल कर हम सच्चा जीएसटी बना देंगे। एक टैक्स होगा, 5 अलग-अलग टैक्स नहीं होंगे और आपको आज जो लोग तंग करते हैं, आपसे पैसा छीनते हैं, चोरी करते हैं, वो आप पर दबाव नहीं डाल पाएंगे, आप ईमानदारी से काम करेंगें, एक टैक्स होगा, सिंपल सा टैक्स होगा, आप अपना सिंपल सा टैक्स देंगे और हम गब्बर सिंह टैक्स को खत्म करके जीएसटी लागू कर देंगे।     


आखिरी बात मैं छत्तीसगढ़, बस्तर से कहना चाहता हूं। आपका, मेरा पुराना रिश्ता है, चाहे वो जवाहरलाल नेहरु जी हों, इंदिरा गांधी जी हों, सोनिया गांधी जी हों, राजीव गांधी जी हों, हमारा आदिवासियों से, बस्तर की जनता से पुराना परिवारिक रिश्ता है। मैं आपको सिर्फ एक बात कहना चाहता हूं। चाहे आपकी जमीन का मामला हो, चाहे किसानों का मामला हो, तेंदूपत्ता का मामला हो, जंगल का हो, जल का हो, जमीन का हो, आपके दो-तीन सिपाही यहाँ सामने बैठे हुए हैं और आपका एक सिपाही दिल्ली में लोकसभा में बैठा हुआ है। जो भी आप चाहते हैं, मेरा दरवाजा आपके लिए खुला है। ये राजनैतिक रिश्ता नहीं है, ये प्यार का रिश्ता है। आप मालिक हैं, जो भी आप चाहते हैं, आप मेरे पास आओ और मुझे साफ कह दो – राहुल, हम आपसे ये मदद चाहते हैं। मैं आपको सीधा बता दूंगा, अगर किया जा सकता है, मैं आपको सीधा बता दूंगा किया जा सकता है और हम वो काम कर देंगे। अगर कमी होगी, वो भी मैं आपको बता दूंगा, मगर मैं आपसे सच बोलूंगा, मैं आपसे झूठे वायदे नहीं करने वाला हूं। मैं आपका आदर करता हूं, मैं आपसे प्यार करता हूं और मैं आपसे सच्चाई का रिश्ता रखना चाहता हूं। आपने मुझे इतना प्यार दिया है, सिर्फ इस चुनाव में नहीं। मैं भूलता नहीं हूं, पिछले चुनाव में भी, इस चुनाव में भी आपने हमारा पूरा समर्थन किया, मैं भूलता नहीं हूं, हमारा प्यार का रिश्ता है। 


आप सबका, माताओं –बहनों का, युवाओं का, बुजुर्गों का दिल से बहुत-बहुत धन्यवाद। नमस्कार।


जयहिंद।               


  Sd/-

(Vineet Punia)

Secretary

Communication Deptt. 

AICC