Hon'ble Congress President Shri Rahul Gandhi addressed the media at AICC Hdqrs.

Hon'ble Congress President Shri Rahul Gandhi addressed the media at AICC Hdqrs.


ALL INDIA CONGRESS COMMITTEE

24, AKBAR ROAD, NEW DELHI

COMMUNICATION DEPARTMENT


Highlights on Press briefing: 11 December,  2018


Congress President Shri Rahul Gandhi addressed  the media today at AICC Hdqrs.


श्री रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आज पूरे देश में प्रजातंत्र की विजय पर एक खुशी का दिन है, हर्ष की लहर है, बगैर किसी विलंब के मैं कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ अनुरोध करुंगा, इस जीत के जिन्होंने नेतृत्व किया, मागदर्शन किया, जो इस जीत के प्रणेता हैं, आदरणीय कांग्रेस अध्यक्ष श्री राहुल गांधी जी से कि वो अपनी बात कहें।  


श्री राहुल गांधी ने कहा कि चुनाव के रिजल्ट आए, जनता को, कांग्रेस के कार्यकर्ताओं को, उन सबको मैं बधाई देना चाहता हूं। जिन राज्यों, तेलंगाना में, मिजोरम में हमारी हार हुई, वहाँ चुनाव जीतने वाले को बधाई देना चाहता हूं। ये जीत कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं की है, किसानों की है, युवाओं की है, छोटे दुकानदारों की है। ये जो आवाज उठी है, अब कांग्रेस पार्टी के ऊपर एक भारी जिम्मेदारी है कि इस आवाज को हम अच्छी तरह सुनें और इन स्टेट्स में जो विजन दिया जाना चाहिए, वो हम दें पाएं। तो इस पर हम सब काम शुरु करेंगे। 


मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़ में बीजेपी को हमने हराया है और जो वहाँ के मुख्यमंत्री हैं, उन्होंने जनता के लिए काम किया। जरुर हमारी लड़ाई उनके साथ विचारधारा की रही - विपक्ष की लड़ाई हुई, हमने उनको हराया, मगर मैं उनको भी कांग्रेस पार्टी की ओर से कहना चाहता हूं कि जो उन्होंने मध्यप्रदेश के लिए, छत्तीसगढ़ के लिए, राजस्थान के लिए काम किया, उसके लिए हम उनका धन्यवाद करते हैं और अब बदलाव का समय है, तो उस काम को अब हम आगे ले जाने की कोशिश करेंगे। 


I would like to thank all the people who have supported the Congress Party in the States where we won and in the States where we have lost.

 

I think this is the victory of the Congress workers who have in difficult circumstances stood up and fought for our ideology. So I am very-very proud of them! और मैं कांग्रेस के कार्यकर्ताओं से दिल से कहना चाहता हूं कि आपने जो मेहनत की- मुश्किल हालात में जो आपने मेहनत की, उसके लिए दिल से मैं आपको धन्यवाद करना चाहता हूं। 


The two States where we lost, I would like to congratulate the parties that won Mizoram and Telengana ! 


We now have a lot of work to do in Madhya Pradesh. We are winning Rajasthan, Madhya Pradesh and Chhattisgarh; the youth of the States, farmers, shopkeepers, small business owners, all of them have supported us and we have a commitment towards them and we are going towards that commitment. 


We are going to provide the States with a vision; we are going to provide the Government they can be proud of. In the States there have been BJP Chief Ministers, so I would like to thank them for the work they have done over the last term and we are going to take over and try and to do excellent job. 

 

To a question, Shri Rahul Gandhi said I think there are serious questions being asked about the future of our youngsters, the central question there is, how does our country- our Government intend to give jobs to millions and millions of Indian youngsters. There is a sense among the youth that that promise of the Prime Minister- रोजगार का जो वायदा किया था, वो टूट गया है, उसको पूरा नहीं किया है। The same feeling is there among the farmers. There is a sense of discontentment, inability to see the future, inability to understand how they are going to survive and thrive in the field of agriculture and I think that has had a big impact. We are going to work in these three States and try and ensure that we can give a vision, give a future. Certainly, it is pretty clear that there is s feeling among people in our country that what was committed by Mr. Modi, he has not been able to deliver. That is clear cut that is something we felt throughout the campaign very strongly, people were coming up to us and saying that. That question does arise! 

 

To a question whether the Congress party is back in the reckoning, Shri Rahul Gandhi said I think I have been saying it for sometimes, I think with a resurgent Congress party in the States and in other States where the BJP is ruling and a combined opposition is going to become very difficult for the Prime Minister and the BJP to win the election; that is pretty clear. And this is a clear message to the Prime Minister and to the BJP that the country is not happy with what they are doing. The country is not happy with demonetization, the country is not happy with GST, the country is not happy with the lack of jobs, so that is there. I think it is a good thing for the Congress Party, I am quite happy with what we have achieved. I would have preferred better result in Telengana but it’s Okay. 


एक प्रश्न पर कि इस चुनाव के परिणाम का असर 2019 के चुनाव पर किस तरह से पड़ने वाला है, अलायंस का स्वरुप क्या होगा और जिन मुद्दों को आपने इस चुनाव में उठाया था क्या उनको आगे भी उठाएंगे, श्री गांधी ने कहा कि सेंट्रल मुद्दे, रोजगार और किसानों की जो समस्या हैं, ये सेंट्रल थीम है और ये सिर्फ मध्यप्रदेश का मुद्दा नहीं है, ये हर प्रदेश का मुद्दा है, ये देश का मुद्दा है और इसके लिए आपको, हमें स्ट्रेटेजिक सोल्यूशन निकालना पड़ेगा और ये सोच-समझ कर एक नया विजन देश को देना पड़ेगा। तो जरुर ये जो मुद्दे हैं और ये भी फीलिंग है कि जो प्रधानमंत्री ने वायदे किए थे, जो प्रधानमंत्री ने इकोनॉमी के बारे में वायदे किए थे, रोजगार के वायदे किए थे, वो पूरे नहीं हुए हैं, वो बड़ा साफ है। विपक्ष की आपने कल मीटिंग देखी होगी, बहुत स्ट्रॉंगली यूनाइटेड़ है, यूनिफोर्मली यूनाइटेड़ है और एक साथ लड़ेगी, ये तो पक्का है।  


एक अन्य प्रश्न पर कि जिन राज्यों में कांग्रेस की सीधी जीत हुई है, वहाँ पर मुख्यमंत्री कौन है और दूसरा, जहाँ पर सीटें कम रह जाती हैं, तो क्या दूसरे दलों से बात की जाएगी साथ लाने के लिए, श्री गांधी ने कहा कि एसपी, बीएसपी, कांग्रेस की विचारधारा एक है, उनकी विचारधारा बीजेपी की विचारधारा से अलग है, वो तो बात है। मुख्यमंत्री का कोई बड़ा मुद्दा नहीं आने वाला, वो काफी स्मूथली हो जाएगा।   


एक अन्य प्रश्न पर कि आपने कहा कि आपकी और एसपी, बीएसपी की एक जैसी विचारधारा है तो जब चुनाव था, तो आपने उन पार्टियों के साथ मिलकर चुनाव नहीं लड़ा, क्या कहेंगे, श्री गांधी ने कहा कि Actually हम काफी ओपन थे, हम बहुत फ्लैक्सीबल थे परंतु बातचीत बनी नहीं। लेकिन विचारधारा और हम एक साथ कंफर्टेबल हैं। 


एक अन्य प्रश्न पर कि आज के जो चुनाव नतीजे आए हैं, क्या अब कांग्रेस ईवीएम पर सवाल उठाएगी, श्री गांधी ने कहा कि कांग्रेस पार्टी जरुर चुनाव में जीती है, जो ईवीएम का सवाल उठ रहा है, वो सिर्फ हिंदुस्तान में नहीं उठ रहा है, वो एक जनेरिक सवाल है कि इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन में यूनिवर्सली समस्या है और अगर देश की जनता ईवीएम को देखकर अनकंफर्टेबल है तो वो एक बहुत बड़ा सवाल है और सवाल को एड्रेस करना होगा। हम जरुर चुनाव जीते हैं, पर जो ईवीएम के सेंट्रल मुद्दे हैं, वो अभी भी हैं। सेट्रंल मुद्दा ये है कि, आपके पास EVM में इलेक्ट्रोनिक सिस्टम है और उस सिस्टम के अंदर चिप है और अगर उस चिप को मैनिपुलेट किया जाए तो आप पूरे के पूरे चुनाव को डिस्टर्ब कर सकते हैं या इफेक्ट कर सकते हैं। जो आप मैन्युअल वोटिंग में नहीं कर सकते हैं। It is the question that has been answered, in  the Unites States and other countries where they have said we do not want EVMs. So this ये जो सवाल है actually ये टेबल से नहीं उतरा है।       


एक अन्य प्रश्न पर कि ये जो कांग्रेस की जीत हुई है, क्या ये राफेल में भी एक संदेश है प्रधानमंत्री जी के लिए, श्री गांधी ने कहा कि अच्छा सवाल पूछा आपने, जब प्रधानमंत्री इलेक्ट हुए थे, तो 3 मुद्दों पर वो इलेक्ट हुए थे, रोजगार, भ्रष्टाचार और किसान पर औऱ जनता के दिमाग में ये था कि प्रधानमंत्री सचमुच में भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ेंगे। अब वो फिलिंग गायब हो गई है, अब जनता के दिमाग में ये है कि नरेन्द्र मोदी जी खुद भ्रष्ट हैं और ये सवाल मध्यप्रदेश में, राजस्थान में, छत्तीसगढ़ में जीत का भी कारण है। ये जब पहले लोगों के दिमाग में सवाल नहीं था, साफतौर पर वो सवाल उठ गया है और ये सच्चाई है। सच्चाई ये है कि राफेल में भ्रष्टाचार हुआ है और उसकी सच्चाई निकलेगी। 


एक अन्य प्रश्न पर कि चुनाव कैंपेन में काफी जुबानी हमले हुए हैं, उन पर आप क्या कहेंगे, श्री गांधी ने कहा कि मैंने तो किसी गलत भाषा का प्रयोग नहीं किया। प्रधानमंत्री को देश के युवाओं ने, देश के किसानों ने काम करने के लिए चुना है और साफतौर से प्रधानमंत्री जी को संदेश गया है कि आप रोजगार की जो समस्या है, किसानों की जो समस्या है, भ्रष्टाचार का जो मुद्दा है और अब जो पूरा इकोनॉमिक स्ट्रक्चर मतलब आरबीआई, जो पूरा इकोनॉमिक स्ट्रक्चर ढांचा जो डैमेज हो रहा है, उसके बारे में आप कुछ कीजिए। Frankly प्रधानमंत्री जी पैरालाईज हैं, Prime Minister is not able to respond and he is unable to take the pressure that is coming from the opposition that is pretty clear. उनके भाषणों में अगर आप देखें मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान में ये जो मुख्य तीन-चार सवाल हैं, उनके बारे में प्रधानमंत्री जी कुछ नहीं कहते। So that is issueIndia is facing crisis – job crisis; Prime Minister is chosen to resolve it.  


एक अन्य प्रश्न पर कि आप हर मंच से किसानों के कर्ज माफी का वायदा करते आए हैं, तो आपकी सरकार बनने के कितने दिनों के बाद ये घोषणा करेंगे, श्री गांधी ने कहा कि हमने कहा है कि जैसे ही हमारी सरकार बनेगी, वो किसान कर्जा माफी का प्रोसेस शुरु हो जाएगा, तुरंत प्रभाव से।


एक अन्य प्रश्न पर कि प्रधानमंत्री जी और अमित शाह जी लगातार कहते रहे हैं कांग्रेस मुक्त भारत, क्या अब कांग्रेस कहेगी बीजेपी मुक्त भारत, श्री गांधी ने कहा कि हमारी ये अप्रोच अलग है, बीजेपी की एक विचारधारा है, हम उस विचारधारा के खिलाफ लड़ेंगे, उनको हम हराएंगे। हमने आज हराया है और 2019 में भी हम हराएंगे। मगर हम किसी को भारत से मुक्त नहीं करना चाहते हैं, अगर लोगों की सोच है, अप्रोच है, हम उससे एग्री नहीं करते हैं, हम उससे लड़ेंगे, लेकिन हम किसी को देश से मिटाना नहीं चाहते हैं। 


To another question, Shri Rahul Gandhi said each state is different, each State has its demands, and so we will go based on what the demands of the States are. My central idea when dealing with that issue is, I ask the Congress Party in the respective states, I asked them what they feel and what they tell me and based on what I am told  I go forward.  


On a question, Shri Rahul Gandhi said I think we will work with the opposition. There are a couple of central issues; 


Issue No. 1 is how India is going to give employment to its youngsters, 


Issue No. 2 is how India is going to ensure that farmers have a future in this country. How agriculture is fixed in to the larger economic vision of this country. Issue No. 3 is the corruption that has been blatantly carried out and I keep repeating again and again and again that demonetization is a scam,   demonetization is scam. Rafale! Everybody knows corruption took place. So, these would be the three main ideas. 


There is an issue of mismanagement of the economy and causing unnecessary damage to sections of the economy that were actually doing well- badly implemented GST, demonetization which was disastrous, now RBI Chief has also resigned. Ex. RBI Chief has commented what he thought about demonetization and others have also commented, so, those would be the issues. But broadly what I think the Congress Party and the opposition are going to attempt is that Mr. Modi sold a vision to this country five years ago and this country had the patience to listen to that vision and then to give him five years to carry out that vision and by all accounts, Mr. Narendra Modi and the BJP have failed in providing our country with a vision of going forward for the 21st century for 2018-19 to 2025. So I think what we would be trying to do is we would be trying,  rather than attacking the current dispensation, we would be setting the structure and the architecture for a new vision going forward for our country. Congress party has done this a number of times before, we did it in 1991, and we did it before that in the 1970s when there was green revolution. So we are now starting a conversation internally and we are going to involve large parts of our country in developing a vision for India that we would then implement. So that would be the broad theme.


To another question, Shri Rahul Gandhi said I was speaking to my mother yesterday and I was telling her that the absolute best thing for me was the 2014 election. Now this would be counter intuitive to you, you might say what you are saying but for me I have learnt a lot from that election. I have learnt a lot about how to think about things. I have learnt that the most important thing is humility. This is a great country. The most important thing is what the people of this country feel. And as a politician you have to listen to what they feel, you have to connect with what they feel and you have to try and work with that sentiment. So that is a lesson! I mean frankly Mr. Narendra Modi has taught me that lesson because I see what not to do.  As Mr. Narendra Modi had a huge opportunity 5 years ago, he was handed a massive opportunity to transform this country and the sad thing and I feel bad for him even though I am in opposition is that he refused to listen to the heart beat of this country. He refused to listen to what youngsters are saying to him, he refused to listen to what farmers are saying. Certain amount of arrogance came in and I think that fails a politician something that I learnt from him, how he has acted. I learn from what I see and the best teachers for me are the people of this country. I mean you meet them, everybody has got an opinion, everybody has something to add value to, you talk to a farmer, he explains you what he does, you talk to a small business-man, he explains to you what he does. So there is so much understanding in this country that for any politician there is a lot to learn and offer. That is what I have learnt. It has been quite a nice journey, little bit of a beating also, which is a good thing; it is not a bad thing! 


एक अन्य प्रश्न पर कि कांग्रेस ये कहती आई है कि 2009 में यूपीए ने किसानों का ऋण माफ किया था, क्या 2019 का चुनाव भी आप लोग किसानों का ऋण माफ करने का वायदा करके लड़ेंगे, श्री गांधी ने कहा कि मैंने अपने भाषणों में बोला कि कर्ज माफी एक सपोर्टिंग स्टेप है, कर्ज माफी सोल्यूशन नहीं है। सोल्यूशन ज्यादा कॉम्पलेक्स होगा, सोल्यूशन किसानों को सपोर्ट करने का होगा, इन्फ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने का होगा, टैक्नॉलोजी देने का होगा। Frankly मैं बोलूं सोल्यूशन आसान नहीं है, सोल्यूशन चैलेंजिंग चीज है और हम उसको करके दिखाएंगे। लेकिन उसमें किसानों के साथ हमें काम करना पड़ेगा, देश की जनता के साथ हमें काम करना पड़ेगा और हम वो करेंगे। 


एक अन्य प्रश्न पर कि इस बार चुनाव में जीत का कैप्टन आप किसे मानते हैं, श्री गांधी ने कहा कि एक जो जनता में फीलिंग थी, जो जनता विजन देखना चाह रही थी, जो उनको बीजेपी नहीं दिखा पाई। दूसरा कांग्रेस पार्टी का कार्यकर्ता, जो मैं बहुत खुशी से कह रहा हूं, जिसने पूरे देश को दिखा दिया कि वो है क्या और मैं फिर से कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता को धन्यवाद करना चाहता हूं, मैं बंद कमरे में आपसे कहता हूं, आज खुले कमरे में कह देता हूं कि आप बब्बर शेर हो। तो ये फीलिंग कांग्रेस कार्यकर्ता में थी, वो काफी इफैक्टिव रही। Frankly जो नोर्मली हमारी टेंशन होती हैं नेताओं के बीच में, उनको भी काफी हमने आयरन आउट कर दिया - एक साथ मिलकर हम चले, उसका भी काफी फायदा हुआ।   


एक अन्य प्रश्न पर कि बीजेपी जो राम मंदिर का मुद्दा उठा रही है, उस पर आप क्या कहेंगे, श्री गांधी ने कहा कि मुख्य मुद्दा देश के सामने रोजगार का है, किसानों का है, भ्रष्टाचार का है, उस पर हम लड़े है और वही जनता सुनना चाहती है। 



Sd/-

(Vineet Punia)

Secretary

Communication Deptt.

AICC