Rafale Scam : Hon'ble Congress President Shri Rahul Gandhi's press briefing

Rafale Scam : Hon'ble Congress President Shri Rahul Gandhi's press briefing


ALL INDIA CONGRESS COMMITTEE

24, AKBAR ROAD, NEW DELHI

COMMUNICATION DEPARTMENT


Highlights of Press Briefing                                                                            07 March, 2019


Shri Rahul Gandhi, Congress President addressed the media at AICC Hdqrs.


श्री रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि आज पूरे देश में चौकीदार की चोरी को लेकर चर्चा है और अब तो सबूत औऱ साक्ष्य भी सामने हैं। मैं बगैर विलंब के कांग्रेस अध्यक्ष आदरणीय श्री राहुल गांधी से अनुरोध करुंगा कि वो इस खुलासे की अगली कड़ी के संबंध में अपनी बात कहें। 


श्री राहुल गांधी ने कहा कि एक नई लाइन निकली है – “गायब हो गया। 2 करोड़ युवाओं का रोजगार - गायब हो गयाकिसानों का सही दाम- गायब हो गया! 15 लाख रुपए का जो वायदा थापैसा जो बैंक अकाउंट में आना था- वो गायब हो गया! किसानों के बीमे  का पैसा – गायब हो गया! नोटबंदी, जीएसटी में कारोबार, गायब हो गया! डोकलाम- गायब हो गया और राफेल की जो फाइलें हैं – गायब हो गई! 


कल बड़ी इंट्रेस्टिंग बात हुई। मीडिया के बारे में कहा गया है कि सरकार उनके बारे में जांच करेगी क्योकि राफेल की जो फाइलें हैंवो गायब हो गई हैं। मगर जिसने 30,000 करोड़ रुपए का घोटाला किया हैजिसके बारे में साफ लिखा है कि पैरलल नेगोसिएशन हो रहा थाउनके बारे में कोई जांच नहीं होगी। बेसिक आईडिया है कि किसी चीज को भी मरोड़ करबदल कर नरेन्द्र मोदी जी का बचाव करना है। कोई भी इंस्टिट्यूशन होसरकार का सिर्फ एक काम है कि जो चौकीदार हैउसको बचा कर रखना है।


एक प्रश्न पर कि सरकार की तरफ से कहा गया है कि जिस तरह से फाइलें गायब हुई हैंउसमें कानूनी कार्यवाही की जाएगीश्री गांधी ने कहा कि मैंने बोला हैआप कानूनी तौर पर जो करना चाहते हैं करिए। लेकिन न्याय सबके लिए होना चाहिए। एक तरफ आप कह रहे हैं कि ये कागज गायब हो गए।अगर ये कागज गायब हुए हैं तो कागज सच्चे हैंये झूठे तो नहीं हैं। आप ही स्वीकार रहे हैंसही बात है ना! कागज में साफ लिखा है कि नरेन्द्र मोदी जी पैरलल नेगोसिएशन कर रहे थे। कागज में साफ लिखा है कि कीमत बढ़ाई गई है और किसी एक व्यक्ति ने नहींसब लोगों ने कहा हैनेगोसिएशन टीम ने कहा है कि नरेन्द्र मोदी जी ने बायपास सर्जरी की है। फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा है कि हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री जी ने मुझे सीधा कह दिया कि अनिल अंबानी को कॉन्ट्रैक्ट मिलना चाहिए। तो आप बताईएआप कार्यवाही कीजिएकागजों पर कार्यवाही कीजिएलेकिन इन पर भी तो कीजिए जिनका नाम कागज में आ रहा है।


एक अन्य प्रश्न पर कि आपको क्या लगता है कि सरकार सुप्रीम कोर्ट में झूठ बोल रही हैश्री गांधी ने कहा कि ये तो आपके ऊपर है। सिर्फ फाइलें थोड़ी गायब हैंसब चीज गायब हैं! रोजगार गायब हैकिसान को सही दाम मिलना था’ वो गायब है!  डोकलाम गायब हो गयाये तो इस सरकार का काम ही है गायब करना।


On the question that day before yesterday the Government said that we had the prior information, Shri Rahul Gandhi said the point is that it is the Government’s job and the Court’s job to give justice. We are just saying give justice to everybody आप न्याय की बात कर रहे हैं तो सबको दीजिए, क्लियर कट वहाँ पर प्रधानमंत्री का नाम आ रहा है। फाइल में लिखा है, PMO is carrying out parallel negotiations तो उसके बारे में जांच कीजिए। उसके बारे मेंक्या कन्फ्यूजन है।


उसी फाइल में लिखा है और हमने आपको कागज दिखाए हैं, कि प्रधानमंत्री के पैरलल नेगोसिएशन ने राफेल की डिलिवरी शेड्यूल को रिटार्ड (धीमा)किया है। हमारी डील में राफेल पहले आता। अगर आप कागज देखना चाहते हैं, तो मैंने आपको दिखाए हैं, मैं आपको फिर से दिखा सकता हूं, रणदीप जी आपको दिखा देंगे, जहाँ साफ लिखा है, नेगोसिएशन टीम ने लिखा है कि राफेल हवाई जहाज इस डील में देरी से आएगा। परंतु प्रधानमंत्री जी कहते हैं अगर राफेल टाईम पर आ जातापर ये आता कैसे? राफेल इसलिए टाईम पर नहीं आय़ा क्योंकि आप अनिल अंबानी को पैसा देना चाह रहे थे। सच्चाई भी यही है औऱ मैं नहीं कह रहा हूं, सरकार के कागजात में हैं, आपको दिखा देंगे, आप मोदी जी को भी दिखा देना। 


एक अन्य प्रश्न पर कि सरकार की तरफ से ये कहा जा रहा है कि जिसने भी ऑफिशियल डॉक्यूमेंट रखे हैं, उन पर कानून कार्यवाही की जाएगी, श्री गांधी ने कहा कि मैं कह रहा हूं, आपको जिस पर कार्यवाही करनी है, आप कीजिए। वो तो ओपन सीजन है कार्यवाही कीजिए, आपकी सरकार है। मगर प्रधानमंत्री पर भी कार्यवाही कीजिए।प्रधानमंत्री जी ने स्वयं डेढ़ बजे रात को सीबीआई चीफ को हटाया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उनको दोबारा नियुक्त करिए, उसके बाद प्रधानमंत्री ने फिर से हटा दिया। तो कुछ ना कुछ तो है। जांच कीजिए,जो भी जांच करनी है कीजिए, मगर प्रधानमंत्री जी पर भी कीजिए। प्रधानमंत्री ने राफेल डील को धीमा (डिले) किया। प्रधानमंत्री जी ने 30,000 करोड़ रुपए अनिल अंबानी की जेब में डाले। डिफेंस मिनिस्ट्री के कागजों में लिखा है। पर्रिकर जी ने साफ बोला है - ऑडियो टेप है, आपको सुनाई है मैंने, उनके मंत्रियों ने कहा है, गोवा के मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि मेरे पास फाइल पड़ी हुई है, वहाँ पर जांच कीजिए, उनके पास फाइल कैसे पड़ी हुई है। जांच कीजिए, सब पर कीजिए, पर प्रधानमंत्री जी पर भी कीजिए। 


एक अन्य प्रश्न पर कि जैसे कि राफेल डील में 30,000 करोड़ रुपए की बात की जा रही है, क्या उस 30,000 करोड़ रुपए में नरेन्द्र मोदी जी को भी कुछ मिला है, श्री गांधी ने कहा कि हाँ, actually कनेक्शन डायरेक्ट है। वो सब सच्चाई बाहर आ जाएगी। वो जो सच्चाई है, पैसा कहाँ गया है, वो आहिस्ता-आहिस्ता बाहर आ जाएगा। पर मुख्य बात है कि डिफेंस मिनिस्ट्री की फाइल में आप ब्यूरोक्रेसी को समझते हैं,डिफेंस मिनिस्ट्री की फाइल में नेगोसिएशन टीम के लोग जब लिखते हैं PMO is carrying out parallel negotiations.वो पैरलल नेगोसिएशन क्यों हो रहा है! ऐसे ही मतलब मजे के लिए हो रहा हैउसका कोई कारण होगा ना। नहीं तो आप उनको करने दीजिए अपना काम। जो नेगोसिएशन टीम है, अगर उनको आप उनका काम करने देंगे, वो काम करेंगे। आप उसमें दखल क्यों डाल रहे हैं, कोई ना कोई कारण तो है औऱ कारण ये है कि आप अनिल अंबानी को 30,000 करोड़ रुपए देना चाहते थे और वो सिर्फ आप अनिल अंबानी को नहीं देना चाहते थे, उससे आपका भी फायदा होगा। 


एक अन्य प्रश्न पर कि क्या इसमें एफआईआर दर्ज होनी चाहिए, श्री गांधी ने कहा कि अगर वो कह रहे हैं कि ऑफिशिएल सिक्रेट एक्ट के ये कागजात हैं और उस पर हम एफआईआर लगाएंगे, तो फिर इस पर आप क्यों नहीं लगा रहे हैं


एक अन्य प्रश्न पर कि क्या प्रधानमंत्री और प्रधानमंत्री कार्यालय के ऊपर भी एफआईआर दर्ज होनी चाहिए, श्री गांधी ने कहा कि उसमें तो साफ लिखा है, जब आप पीएमओ यूज करते हैं, पीएमओ का मतलब क्या है, पीएमओ का मतलब है प्राईम मिनिस्टर ऑफिस। तो कार्यवाही तो होनी चाहिए,It is a blatant case of corruption. It is written there clearly that the Prime Minister – PMO does not mean PMO – PMO means Prime Minister of India Narendra Modi. In Defence Ministry’s files, it is clearly written that Prime Minister is carrying out negotiations. So, why should there not be criminal investigation. Why is the criminal investigation हिंदुस्तान में क्रिमिनल इनवेस्टिगेशन उन सब पर हो सकती है, जो पीएम का विरोध करते हैं, मगर जब क्लियर कट प्रधानमंत्री का नाम आता है तो फिर कोई क्रिमिनल इनवेस्टिगेशन नहीं हो सकती। क्यों


दिल्ली में आम आदमी पार्टी से गठबंधन पर पूछे एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि अगर आप देखें तो महाराष्ट्रतमिलनाडुझारखंड में हमारे गठबंधन तय हैं। दिल्ली में हमारी जो पार्टी हैवो यूनेनिमिस्ली गठबंधन के विरुद्ध हैपर overall अलायंस ट्रैक पर हैं।


राफेल मामले पर पूछे एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि मेरा कहना है कि पहले आप सबने कहा कि राफेल में कुछ नहीं हैआपने कहा था। अहिस्ता-अहिस्ता हमने आपको दिखाया कि राफेल में घोटाला हुआ है और अंत में हिंदू अखबार ने दिखाया है कि राफेल में प्रधानमंत्री का नाम लिखा है। डिफेंस मिनिस्ट्री की फाइल में लिखा है कि PMO is carrying out parallel negotiations. उसमें इंडिकेट किया गया है, Prime Minister should not do the negotiations. इसलिए इससे हमें परे कर दो। ये लिखा है वहाँ परतो ये क्लियर कट केस है। ये भी है कि राफेल हवाई जहाज का काम बढ़ाया गया है,वो भी उस कागज में लिखा है। ये भी एक केस है कि राफेल की डिलिवरी शेड्यूल डिले की गई हैवो भी उसमें लिखा है। तो जिम्मेदारी किसकी हैजिम्मेदारी प्रधानमंत्री जी की है। मुझे नहीं समझ आ रही है ये बात कि प्रधानमंत्री जी स्वयं जांच क्यों नहीं कराते हैंIf Prime Minister is not guilty, then why doesn’t the Prime Minister say वो स्वयं क्यों नहीं कह रहे हैं कि हाँ मैं नहीं डरता किसी सेमैं जांच कराऊंगादूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा। हमने जब जेपीसी की मांग कीउन्होंने मना क्यों कियाअरुण जेटली जी के साथ बात हुई मेरीबड़े-बड़े भाषण दे रहे थेमैंने कहा कि जेपीसी करा दीजिएआपने देखा ना कि जेपीसी कराने से भाग गए। तो अगर इसमें कुछ नहीं है तो प्रधानमंत्री जी स्वयं ये क्यों नहीं कहते हैं कि कराओ जांचमैं देश का चौकीदार हूंमैंने चोरी नहीं की हैकराओ जांच। 


पाकिस्तान पर हुई एयरस्ट्राइक के संदर्भ में पूछे एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि कल मैंने अखबार में पढ़ा कि जो सीआरपीएफ के जवान शहीद हुएउनके परिवार ने ये मांग उठाई हैअब उनकी फीलिंग है और कांग्रेस के लोगों ने इस पर जो चर्चा करनी थीकर दी। इस पर मैं ज्यादा जाना नहीं चाहता हूंपर ये जो सीआरपीएफ के जवान हैंउनके परिवार में ये फीलिंग हैकि हमें चोट लगी हैहमें भी दिखाईए कि क्या हुआ है।


वी.के. सिंह के दिए बयान पर पूछे एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री गांधी ने कहा कि मुझे याद नहीं आ रहा है, did we go to Nawaz Sharif?  हम गए थेपठान कोट में हमनें बुलाया था। पठान कोट में कौन आए थेक्या नाम है उनका आईएसआईPrime Minister has got ISI to investigate Pathankot. Prime Minister going to Mr. Nawaz Sharif’s (family) wedding and we are the poster boys. He is poster boy of Pakistan hugging Mr. Nawaz Sharif, calling Mr. Nawaz Sharif to his swearing in ceremony doing away drama. The fact of the matter is that the issue here is corruption in Rafale and it is very clear कि प्रधानमंत्री ने पर्सनली अनिल अंबानी को ये कॉन्ट्रैक्ट दिलवाया है, 30,000 करोड़ रुपए इनकी जेब में डाले हैं। 


On the question that the file was stolen and used and violated the Official Secrets Act, does the Congress Party believe that now the file has come because it is very old law – archaic law – and we can do without this Act – The Official Secrets Act – Shri Rahul Gandhi said we do not know, that is a technical question and I am sure there are many things that cross the line of secrecy. So, I am not going to comment on whether we should get rid of the Official Secrets Act in a forum like this without any sort of detailed thinking about it, but, I would like to comment that you are being punished because you are brave, that is why you are punished and I am very proud that you have the guts to stand against Mr. Narendra Modi. 


एक अन्य प्रश्न पर कि प्रधानमंत्री ने ये बार-बार कहा है कि राफेल आने में कांग्रेस ने देरी की है, श्री गांधी ने कहा कि इसका जवाब मैंने दे दिया है, अगर आप कागजात चाहते हैं, रणदीप सिंह जी के पास कागजात हैं, जिसमें साफ लिखा है कि प्रधानमंत्री जी की नई डील ने राफेल हवाई जहाज को हिंदुस्तान में लाने के लिए डिले किया है, वो हम आपको दे देंगे। 


Sd/-

(Vineet Punia)

Secretary

Communication Deptt. 

AICC